Gogoro ने भारत में CrossOver GX250 बैटरी स्वैपिंग सुविधा वाला इलेक्ट्रिक स्कूटर लॉन्च किया

BIKASH
By BIKASH

CrossOver GX250: भारत के इलेक्ट्रिक स्कूटर बाज़ार में एक गेम-चेंजर

भारत में इलेक्ट्रिक वाहन क्रांति गति पकड़ रही है, और हाल ही में अपने CrossOver GX250 इलेक्ट्रिक स्कूटर के साथ बाजार में गोगोरो के प्रवेश ने चीजों को एक नए स्तर पर ले लिया है। इस विस्तृत पोस्ट में, हम CrossOver GX250 की विशिष्टताओं, भारतीय बाजार के लिए गोगोरो की रणनीति और गेम-चेंजिंग बैटरी-स्वैपिंग सुविधा का पता लगाएंगे।

Image Credit gogro

The CrossOver GX250: A Closer Look

CrossOver GX250 Dimensions

  • Length: 1890 mm
  • Width: 770 mm
  • Height: 1150 mm
  • Wheelbase: 1310 mm
  • Seat height: 770 mm
  • Ground clearance: 176 mm

CrossOver GX250 Motor and Performance

  • Motor type: Direct drive electric motor
  • Power: 2.5 kW
  • Torque: 20 Nm
  • Top speed: 60+ km/h
  • 0-40 km/h acceleration: 4.2 seconds
  • Certified range: 111 km

CrossOver GX250 Battery and Charging

  • Battery type: Swappable lithium-ion battery
  • Battery capacity: 2.5 kWh
  • Charging time: 3 hours (with standard charger)
  • Number of batteries: 2

Chassis and Suspension

  • Frame type: Steel underbone frame
  • Front suspension: Telescopic fork with fork gaiters
  • Rear suspension: Twin shock absorbers
  • Brakes: Front disc brake, rear drum brake
  • Wheels: 12-inch alloy wheels
  • Tires: 100/90-12 front, 110/90-12 rear

CrossOver GX250 Features

  • Digital instrument cluster
  • Keyless function
  • Rain mode
  • Traction control
  • 26 mounting points for accessories
  • 4 cargo-carrying areas
  • Flip-up rear seat for backrest and extra luggage space

Gogoro’s Entry into the Indian Market

ताइवान की ईवी निर्माता गोगोरो ने आधिकारिक तौर पर भारत में अपनी क्रॉसओवर GX250 पेश की है। गोगोरो के महाराष्ट्र स्थित संयंत्र में निर्मित, इलेक्ट्रिक स्कूटर तीन वेरिएंट में आता है: क्रॉसओवर GX250, क्रॉसओवर 50, और क्रॉसओवर S। कंपनी की योजना GX250 को नेपाल जैसे पड़ोसी देशों में निर्यात करने की है।

Power-Packed Performance

क्रॉसओवर GX250 में 2.5 किलोवाट डायरेक्ट ड्राइव मोटर है, जो इसे 60 किमी/घंटा से अधिक की शीर्ष गति तक ले जाती है। स्कूटर एक बार चार्ज करने पर 111 किमी की रेंज का दावा करता है, जो इसे शहरी आवागमन के लिए एक व्यावहारिक विकल्प बनाता है। केवल 4.2 सेकंड में 0-40 किमी/घंटा की रफ्तार राइडिंग अनुभव में जोश भर देती है।

Innovative Design and Functionality

अपने प्रभावशाली प्रदर्शन के अलावा, क्रॉसओवर GX250 अपने अभिनव डिजाइन और सुविधाओं के साथ खड़ा है। 200 किलोग्राम तक भार उठाने में सक्षम चेसिस के साथ, यह स्थिरता और स्थायित्व प्रदान करता है। स्कूटर में 26 लॉकिंग पॉइंट और चार कार्गो क्षेत्र शामिल हैं, जो सवार के सामान के लिए पर्याप्त जगह प्रदान करते हैं। लचीलेपन के लिए डिज़ाइन की गई पिछली सीट को अतिरिक्त कार्गो भंडारण बनाने के लिए पलटा या हटाया जा सकता है।

Battery Swapping Facility: A Paradigm Shift

गोगोरो ने न केवल एक नया इलेक्ट्रिक स्कूटर पेश किया है बल्कि अपने बैटरी-स्वैपिंग बुनियादी ढांचे के साथ खेल को भी बदल रहा है। शुरुआत में दिल्ली में व्यावसायिक ग्राहकों के लिए शुरू की गई यह सुविधा आने वाले महीनों में गोवा, पुणे और मुंबई तक विस्तारित करने के लिए तैयार है। अगले साल की दूसरी तिमाही तक, अंतिम उपभोक्ता भी इस सुविधाजनक और कुशल बैटरी-स्वैपिंग समाधान से लाभ उठा सकते हैं।

Horace Luke’s Vision

गोगोरो के संस्थापक और सीईओ होरेस ल्यूक ने क्रॉसओवर श्रृंखला के बारे में अपना उत्साह व्यक्त किया और इस बात पर प्रकाश डाला कि कैसे भारत में निर्मित क्रॉसओवर GX250 को भारतीय सवारों के लिए तैयार किया गया है। बैठने की जगह, भंडारण और ग्राउंड क्लीयरेंस पर जोर भारतीय बाजार की विशिष्ट जरूरतों को पूरा करने के लिए गोगोरो की प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

Pricing and Availability

जबकि गोगोरो ने अपने इलेक्ट्रिक स्कूटरों की कीमतों का खुलासा नहीं किया है, CrossOver GX250 पहले से ही खरीद के लिए उपलब्ध है। क्रॉसओवर 50 और क्रॉसओवर एस के 2024 के अंत में बाजार में आने की उम्मीद है।

Conclusion

भारतीय इलेक्ट्रिक स्कूटर बाजार में गोगोरो का प्रवेश टिकाऊ और नवीन परिवहन की दिशा में एक महत्वपूर्ण बदलाव का प्रतीक है। gogoro CrossOver GX250, अपने शक्तिशाली प्रदर्शन, विचारशील डिजाइन और बैटरी-स्वैपिंग तकनीक की शुरूआत के साथ, धूम मचाने के लिए तैयार है। जैसे-जैसे इलेक्ट्रिक वाहन परिदृश्य विकसित हो रहा है, गोगोरो उद्योग के लिए नए मानक स्थापित करते हुए अग्रणी के रूप में सामने आया है।

Frequently Asked Questions (FAQs)

गोगोरो क्रॉसओवर GX250 को चार्ज करने में कितना समय लगता है?

स्वैपेबल लिथियम-आयन बैटरी के लिए मानक चार्जिंग समय 3 घंटे है।

क्या क्रॉसओवर GX250 की पिछली सीट को हटाया जा सकता है?

हां, पीछे की सीट को अतिरिक्त कार्गो भंडारण के लिए पलटने या हटाने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

क्रॉसओवर GX250 चेसिस अधिकतम कितना वजन सहन कर सकता है?

चेसिस 200 किलोग्राम तक वजन सहन कर सकता है।

क्रॉसओवर GX250 का निर्माण कहाँ किया जाता है?

इलेक्ट्रिक स्कूटर का निर्माण भारत के महाराष्ट्र में गोगोरो के संयंत्र में किया जाता है।

गोगोरो की बैटरी-स्वैपिंग सुविधा अंतिम उपभोक्ता के लिए कब उपलब्ध होगी

यह सुविधा अंतिम उपभोक्ताओं के लिए अगले वर्ष की दूसरी तिमाही में उपलब्ध होने की उम्मीद है।

Share This Article
Leave a comment